स्टूडेंट्स का एग्जाम स्ट्रेस दूर करेगा सेलिब्रेशन ऑफ परीक्षा पर्व 3.0 -नेशनल कॉउंसलिंग ऑफ एजुकेशन रिसर्च एंड ट्रेनिंग द्वारा नियुक्त परामर्शदाता श्री सुदेश तोमर ने कहा-

IndiaBelieveNews
Image Credit: IndiaBelieveNews

एग्जाम स्ट्रेस को कम करेगी साइकोलॉजिकल काउंसलिंग  ---   नेशनल कॉउंसलिंग ऑफ एजुकेशन रिसर्च एंड ट्रेनिंग द्वारा नियुक्त परामर्शदाता श्री सुदेश तोमर ने कहा स्टूडेंट्स का एग्जाम स्ट्रेस दूर करेगा सेलिब्रेशन ऑफ परीक्षा पर्व 3.0

हम सभी जानते हैं कि एग्जाम नजदीक आते ही बोर्ड एग्जाम देने वाले स्टूडेंट्स को एग्जाम फीवर घेर लेता है। इसके चलते वे एग्जाम में ठीक से प्रदर्शन नहीं कर पाते। कई बार वे इतने स्ट्रेस में आ जाते हैं कि कुछ गलत कर बैठते हैं। इसलिए परीक्षा में शामिल होने वाले छात्रों के एग्जाम  फीवर को कम करने की पहल शुरू हो चुकी है। नेशनल कमिशन फॉर प्रोटक्शन आफ चाइल्ड राइट्स यानी एनसीपीसीआर, सीबीएसई परीक्षा में शामिल होने वाले छात्रों का अवसाद मिटाने में मदद करेंगे। इसके लिए एनसीपीसीआर ने सेलिब्रेशन आफ परीक्षा पर्व 3.0 शुरू किया है। इस पहल के तहत सभी स्कूलों के छात्रों को जोडऩे का निर्देश दिया गया है। छात्रों को विभिन्न गतिविधियों के माध्यम से मानसिक रूप से स्वस्थ रखने का प्रयास किया जाएगा।

शिक्षक या काउंसलर की यह जिम्मेदारी बनती है कि बच्चों को सही राह दिखाएं। यह बात काउंसलर  श्री सुदेश तोमर ने मंगलबार को जवाहर नवोदय विद्यालय मैं  बच्चो को  परीक्षा पर्व कार्यक्रम  के संदर्भ मैं जानकारी देते हुए  कही। उन्होंने कहा कि जिस तरह बड़ों को तनाव होता है, उसी तरह बच्चों को भी कई प्रकार के तनाव होते हैं। हालांकि, तनाव लेने से चौतरफा असर भी दिखता है। तनाव होने से परफार्मेंस में सुधार होता है, लेकिन सकारात्मक होना चाहिए। अगर परीक्षा का तनाव हो तो खुलकर हंसने का प्रयास करें
बताते चले कि श्री सुदेश तोमर जी कई पूर्व वर्षो से  जवाहर नवोदय विद्यालय  अगसौली मैं छात्रों की कॉउंसलिंग नेशनल कॉउंसलिंग ऑफ एजुकेशन रिसर्च एंड ट्रेनिंग  के माद्यम से नियुक्त काउंसलर के माद्यम से पहले भी करते रहे है जिसके सकारात्मक परिणाम विगत वर्षों के परीक्षा परिणामो मैं देखने को मिले है केंद्रीय माद्यमिक शिक्षा परिषद और नेशनल कमिशन ऑफ प्रोटेक्शन ऑफ चाइल्ड राइट  द्वारा इस समय परीक्षा पर्व  3.0मनाया जा रहा है जो छात्रों की परीक्षा संबंदी तनाव को दूर करेगा श्री सुदेश तोमर ने बताया कि जवाहर नवोदय विद्यालय  में दसवीं और बारहवीं के छात्रों की अलग-अलग 45-45 मिनट की कक्षाओं से काउंसिलिंग की शुरुआत हो चुकी हैं। इस दौरान बोर्ड परीक्षा में तीन घंटे में सारे सवालों का जवाब एकाग्रचित्त होकर कैसे लिखें इस बारे में उन्हें बताया गया। साथ ही तनाव मुक्त होकर परीक्षा देने तथा समय प्रबंधन को लेकर भी छात्रों को टिप्स दिए गए। 

परीक्षा पर्व 3.0 के अवसर पर   परामर्शदाता श्री सुदेश तोमर जी ने  छात्रों को बताया  परीक्षा को एक पर्व की तरह मनाये इसके अतिरिक्त  उन्होंने  परीक्षा मैं अधिकतम अंक कैसे लाये इस पर छात्रों से विस्तार से चर्चा की जिनके मुख्य बिंदु निमलिखित है

1-प्लान के साथ सभी विषयों की प्रियारिटी करें सेट:
प्लान बना कर पढ़ना अच्छे मार्क्स लाने के लिए काफी ज़रूरी है| लेकिन उसके साथ- साथ यह भी तय करना ज़रूरी है, कि किस सब्जेक्ट के टॉपिक को पहले पढ़ना शुरू करें| अगर आप खुद नही समझ पा रहे की कैसे टॉपिक को विभाजित कर पढ़ना हैं तो इसके लिए आप अपने टीचर से पूरी मदद लें और उसके साथ साथ गतवर्ष के प्रश्न पत्र के आधार पर तैयारी शुरू करें| इससे सबसे बड़ा यह फायदा होगा की एग्जाम से पहले वह सारे टॉपिक कवर हो जायेंगे जिनके पूछे जाने की उम्मीद ज्यादा है|

2. तैयारी पर ध्यान दें:
अच्छी तरह सभी पेपर्स की तैयारी करना एग्जाम स्ट्रेस को कम करता है। इसलिए यदि आपकी तैयारी ठीक ढंग से नहीं हो रही हो, तो फिर से रुटीन बनाएं, ताकि सभी विषयों को ठीक से कवर किया जा सके। यदि 10 दिन का समय है और 20 टॉपिक्स पढ़ने हैं तो प्रतिदिन 2 टॉपिक्स को कवर किया जा सकता है। ध्यान रखें कि दिनभर के 24 घंटों में से 18 या 20 घंटे पढ़ने का अव्यावहारिक टाइम टेबल बनाने की भूल बिलकुल न करें। हद से हद 12 घंटे का रोज पढ़ने का समय रखें। इसमें भी बीच-बीच में आराम जरूरी 
है

3. सकारात्मक सोच रखें : किसी भी डर को सकारात्मक सोच से दूर किया जा सकता है| सकारात्मक सोच आपको रिलैक्स रखता है और आप बेहतर ढंग से पढ़ाई करने में समर्थ हो पाते हैं। इसलिए पॉजिटिव सोच रखना बहुत जरुरी है| छात्र जितना टेंशन लेट है अगर वो उसका 50 % भी अपनी पढाई पे ध्यान दें तो काफी बेहतर अंक आसकते है| सकारात्मक सोच रखें का सबसे बड़ा लाभ ये होता है कि आपको अपने ही अंदर बहुत सारी खूबियाँ दिखने लगती है जिससे जो आपकी प्रशन्नता का कारण बनती है और आपको अपनी तैयारी पर फोकस कर देती है|
4. टाइम लिमिट के साथ करें पुराने प्रश्न पत्र हल:
एग्जाम की सबसे अच्छी तैयारी करने का तरीका यह भी है कि छात्र पुराने प्रश्न पत्र की प्रक्टिस करें, लेकिन प्रक्टिस करते समय यह याद रहे की एक निर्धारित समय में ही पुरे प्रश्न पत्र को हल करना है | टाइम मेनेजमेंट की आदत सुधारना बहुत ज़रूरी है क्युकि इससे परीक्षा के समय टाइम मेनेज करना आसान होगा | यह तरीका सही माईनें में एग्जाम के माहौल के लिए छात्रों को तैयार करवाता है | इस तरीके से प्रश्न पत्र हल करने पर न केवल टाइम मेनेजमेंट करना आएगा बल्कि स्कोरिंग तकनीक पर भी पकड़ होगी|
5. सब्जेक्ट को समझे न की रट्टा मारे:
अगर आप परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त करना चाहते हैं तो सबसे पहले यह जरूरी हैं की आप किसी भी विषय को रटने की बजाये, उसे समझने की कोशिश करे। कई बार होता हैं यह की सिर्फ किताबो और गाइड को तोते की तरह रटने से पेपर के दौरान कई सवाल ऐसे बदल कर आ जाते हैं, जिनके बारे में छात्रों को समझ ही नहीं आ पाता हैं। जिससे स्टूडेंट में इन प्रश्नों को देखकर घबराहट होने लगती हैं। ऐसे में जरूरी हैं की आप विषय को रटने की बजाये उसे अच्छी तरह से समझ कर पेपर देंगे तो आपको उस विषय से सम्बंधित हर सवाल का जवाब पता ही होगा। इससे आपका सिलेबस भी पूरा हो जायेगा और परीक्षा में सब्जेक्ट से रिलेटेड हर प्रश्न का उत्तर आपको पता होगा। इसलिए कभी भी किसी सब्जेक्ट को रटने की बजाये उसे समझने की कोशिश करे।
6. टाइम टेबल बनाये:
यह देखा गया हैं की टॉप पर आने वाले स्टूडेंट अपना एक टाइम टेबल जरूर बनाते हैं।अगर आप परीक्षा में अच्छे नंबर लाना चाहते हैं तो सबसे पहले अपना एक टाइम टेबल निर्धारित करे। हर सब्जेक्ट को टाइम के अनुसार डिवाइड करके उसकी पढ़ाई करे। जिस विषय में आप ज्यादा कमजोर हैं, उस विषय पर आप ज्यादा से ज्यादा टाइम दे। लेकिन इस बात का भी ख्याल रखे की जिस विषय पर आपको अच्छी जानकारी हैं, उसे रिविजन करने के लिए भी समय दे। ऐसा नहीं होना चाहिए की सिर्फ आप उन्ही विषयों को समय देते हैं जिनमे आप कमज़ोर हैं, और उन विषयों को दोहराते भी नहीं हैं जिनमे आप मजबूत हैं। यानी की जो विषय आपको आते हैं ठीक हैं उन्हें अच्छे से दोहराए और कमजोर विषयों पर थोड़ा अधिक समय लगाये। विद्यार्थीयों की सबसे बड़ी समस्या यह होती हैं की वह टाइम टेबल तो बना लेते हैं। लेकिन जब उन्हें अपनाने की बारी आती हैं तो उसे कतराते हैं। अगर आप परीक्षा में अच्छे अंको से पास होना चाहते हैं तो अपने बनाये गये टाइम टेबल को न छोड़े। जैसा आपने टाइम टेबल निर्धारित किया हैं, उसे फॉलो करे, इससे आपको सफलता जरूर ही मिलती ही हैं।

7. नोट्स बनाएं:
यह जांचा और परखा हुआ नियम है | नोट्स हमेशा आपकी मदद करेंगे | जब भी आप पढ़ें या रिवीजन करें तो ध्यान से उसके नोट्स बनाते चलें| अक्सर बच्चे पढ़ाई टालते हैं और बाद में पूरा सिलेबस देखकर दवाब में आ जाते हैं, उस समय आपके बनाये नोट्स बहुत सहायक रहते है पुराना पढ़ा दोहराने के लिए और जो भी आप पढ़ रहे है उसे पढ़ने में या उसके नोट्स बनाने में लापरवाही न बरतें | अधूरा काम बाद में करने से आपके रिजल्ट पर असर पड़ता है | प्रतिदिन लक्ष्य निर्धारित करें और उसी के हिसाब से तैयारी के साथ अपने नोटेड को दोहराते रहें |
8.   ज्यादा भोजन न करे जंक फूड से बचें :
जी हां, अच्छे नंबर के लिए आपको अच्छा खाना भी होगा| आपकी डाइट ऐसी होनी चाहिए जिसमें प्रोटीन की मात्रा अधिक से अधिक हो| खाने में हरी सब्जियां, ताजा फल, डेयरी उत्पाद तथा   सेवन करें | सूप, ग्रीन टी और फ्रेश जूस आपके डाइट चार्ट में हो, और हां जंक फूड से दूरी बनाए रखें |बहुत ज़यादा वसा वाली चीज़ें न खाएं| बहुत ज़यादा न खाये नही तो आलस का शिकार होजाएंगे|
9. लिखकर करें प्रैक्टिस:
बहुत से छात्रों की आदत होती है कि वे बोल कर या मन में याद करते हुए पढ़ते हैं। पर परीक्षा कि तैयारी के लिए केवल इतना ही काफी नहीं है। आपको लिखने की आदत भी होनी चाहिए और साथ ही आपकी लिखने की स्पीड भी अच्छी होनी चाहिए। कई बार बच्चे यह कहते हुए पाये जाते हैं कि उन्हें सब आता था लेकिन लिखने का समय नहीं मिला। यह दिक्कत आपके साथ न हो इसीलिए लिखने की आदत डालें, इससे आपको दो फायदे होंगे। आपकी लिखने की स्पीड तो अच्छी होगी ही साथ ही आपकी लिखावट में भी सुधार होगा जो बेहतर मार्क्स के लिए आपकी मदद करेगा।
10. जल्दी उठने की आदत डालें:
सुबह जल्दी उठना हर किसी के लिए अच्छा होता है। अगर आप विद्यार्थी हैं तो यह आपके लिए विशेष रूप से लाभदायक हो सकता है। परीक्षा के कुछ महीनों पहले से ही सुबह जल्दी उठने का प्रयास करें। सुबह अपने नियमित कार्यों को कर अपनी पढ़ाई शुरू करें। जल्दी उठ जाने पर आपका बहुत सा समय बच जाता है और दिन में आपको अधिक समय अपनी पढ़ाई के लिए मिलता है। वैसे तो सभी जानते हैं कि सुबह पढ़ना कितना लाभदायक है क्योंकि एक अच्छी नींद के बाद आप एकदम ताजा और ऊर्जा से भरे होते हैं| सुबह के समय शांति का भी माहौल रहता है| इसीलिए कहते भी हैं कि जल्दी सोना, जल्दी उठना आदमी को स्वस्थ, संपन्न और बुद्धि मान बनाता है| सुबह की हुई पढ़ाई आप लंबे समय तक याद रखते हैं

अगर आप अपने बोर्ड एग्जाम की तैयारी में आज से ही पालन करना शुरू करें तो बोर्ड एग्जाम में 90% से अधिक मार्क्स आसानी से प्राप्त कर सकते हैं, ज़रूरत है तो बस एग्जाम की तैयारी नियमित रूप से करने की और साथ ही साथ अपनी तरफ से बोर्ड एग्जाम की तैयारी में कोई कसर न छोड़ें| आलस्य में चीजों को आगे के लिए मत टालें, इससे सिर्फ नुकसान ही होगा| जो भी पढ़े उसे अच्छी तरह पढ़ें ताकि उसे बार-बार पढ़ने की आवश्यकता न पड़े और बाकि सिलेबस का नुकसान न हो| सवस्थ आहार और व्यायाम को अपने  दिनचर्या में शामिल करें| टाइम मनेजमेंट पर खास ध्यान दे

I think all aspiring and professional writers out there will agree when I say that ‘We are never fully satisfied with our work. We always feel that we can do better and that our best piece is yet to be written’.
View all posts

3 Comments

PURSHOTTAM AWASTHI PURSHOTTAM AWASTHI Tuesday, April 2021, 10:39:52

Dhanyawad Sir.


Harish Harish Wednesday, April 2021, 08:01:47

Nice Sir❤️❤️


Rahul Kumar Rahul Kumar Wednesday, April 2021, 02:20:07

Hii


Leave a Reply