कोरोना और नोटबन्दी से देश सैकड़ों वर्ष पीछे हुआ:शिवपाल

IndiaBelieveNews
Image Credit: IndiaBelieveNews

उत्तर प्रदेश (इटावा) ------------------------------------------     अपनो पे सितम, गैरों पर करम से दागा तीर     रामलीला महोत्सव के कवि सम्मेलन में बोले     जसवंतनगर। प्रगतिशील समाजवादी के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने बीती रात यहां रामलीला महोत्सव के काव्यमंच से देश के प्रधानमंत्री मोदी और अपने  भतीजे पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश पर जमकर व्यंग वाण चलाये।     भारतीय जनता पार्टी की सरकार पर देश को सैकड़ों साल पीछे धकेलने का गम्भीर आरोप लगाते कहा कि देश को कोरोना के नाम पर सरकार द्वारा बुरी तरह छला गया।यदि  लॉक डाउन लगाने से पहले देशवासियों को  समय दिया जाता तो न मजदूर हजारों मील दूर पैदल दौड़ते और न देश मे अर्थतंत्र बुरी तरह चरमराता।सरकार की गलतियों से देश को बड़ा खामियाजा भुगतना पड़ा है और अभी तक देश बेपटरी है।

  उन्होंने कहा कि ऐसा ही नोटबन्दी में हुआ। कहाँ भ्र्ष्टाचार और ब्लैक मनी कम हुआ? बस देश मे उद्योगपति मजबूत बना दिये गए।कोरोना की राहत के नाम पर जबरदस्त आपाधापी और भ्रष्टाचार हुआ है। योगी सरकार उत्तरप्रदेश में हर मोर्चे पर फेल है। उन्होंने लोगों से पूछा कि एक  विकास का काम बताओ , जो योगी सरकार के सत्ता में आने के बाद प्रदेश में तीन साल में हुए हों?उन्होंने अपनी सरकार के कार्यकाल के पचासों काम खुद गिनाते कहा कि आज हमारे कामों का फीता काटकर योगी खूद की पीठ थपथपाते हैं।जीएसटी को देश के व्यपारियों के सफाये का टेक्स बताया।व्यापार इसीलिए खत्म हो रहे।   संबोधित करते करते  शिवपाल सिंह इस अखिल भारतीय कवि सम्मेलन के मंच पर शायराना अंदाज में भी आ गए और अपने भतीजे को इंगित करते उन्होंने  पढा-'अपनों पे सितम,  ग़ैरों पर करम , ये जाने वफ़ा ये जुल्म न कर'.. उनके मुंह से ये पंक्तियां सुन भीड़ आह कर उठी।

   रामलीला जसवंतनगर से अपने स्नेह की चर्चा करते उन्होंने कहा कि हर वर्ष यहां की रामलीला से उन्हें प्रेरणा मिलती है। उन्होंने कवि मंच पर जुटे कवियों डॉ विष्णु सक्सेना, शबीना अदीब, हेमंत पांडेय, अब्दुल गफ्फार, गौरी मिश्र, सुल्तान जहां आदि का रामलीला कमेटी के प्रबंधक राजीव गुप्ता बबलू, हीरालाल गुप्ता राजीव माथुर, अजेंद्र गौर , ब्रह्मशंकर गुप्ता,आदि के संगअभिनंदन  प्रतीक चिन्ह देकर किया।  

I think all aspiring and professional writers out there will agree when I say that ‘We are never fully satisfied with our work. We always feel that we can do better and that our best piece is yet to be written’.
View all posts

Leave a Reply