BREAKING NEWS : कस्बे में निर्माणाधीन बेसमेंट की दीवार ढही, दो मजदूर घायल बरेली में 15 और लोग निकले कोरोना संक्रमित नए नाले के निर्माण की एसडीएम व सीएम पोर्टल पर की शिकायत सड़क ही बेहद जर्जर हालत पर बिफरे नवनीत सहगल, लखनऊ रवाना हुये नोडल अधिकारी वातावरण को शुद्ध रखता है तुलसी का पौधा दो दिन के लॉकडाउन के दूसरे दिन दिखी पुलिस की सख्ती, किये चालान महिला की हत्या करके शव झाड़ियों में फेंका, रेप की आशंका पूर्व सैनिक के हत्यारों को पकड़ने के लिए पुलिस को दो दिन का अल्टीमेटम लूट मामले में एक सप्ताह बाद भी पुलिस के हाथ खाली, सीएम से मिलेंगे ब्यापारी कस्बे में कोरोना संक्रमितों के इलाके को हॉटस्पॉट कर किया सील

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने ,मोटापा कम करने में पाचन क्रिया को ठीक रखने . व अन्य गुणों का भंडार है- फलों का राजा आम

 इम्यूनिटी बढ़ाने व अन्य गुणों का भंडार है फलों का राजा आम
 
आम का मूल दक्षिण एशिया को  स्‍थान माना जाता है। प्राचीन समय से ही आम की खेती की जा रही है। कहा जाता है कि 10वीं शताब्‍दी में फारसी आम को पूर्वी अफ्रीका लेकर गए थे। सन् 1862 या 1863 में डॉ. फ्लेचर द्वारा आम के बीज को वेस्ट इंडीज से मियामी में आयात किया गया था। ऐसा माना जाता है कि बौद्ध भिक्षु चौथी और पांचवी शताब्‍दी में अपनी यात्रा पर आम को मलय और पूर्वी एशिया लेकर गए थे। आम लगभग सन् 1782 में जमैका पहुंचा था और 19वीं शताब्‍दी की शुरुआत में ये फिलीपींस से मेक्सिको और वेस्‍ट इंडीज पहुंचा था।
पूरी तरह से पके आम को समृद्धि का प्रतीक माना जाता है। वास्तव में विश्‍व को आम का उपहार भारत ने दिया है।
भारतीय उपमहाद्वीप के उप-हिमालयी मैदानों में उगाए जाने वाले फलों में आम सबसे पौष्टिक फलों में से एक है। पूरे भारत में आम के स्‍वाद और खुशबू को पसंद किया जाता है। गर्मी के मासैम में तो आम की जैसे बहार सी आ जाती है। यहां तक कि भारत में तो आम को ‘फलों का राजा’ कहा जाता है। प्राचीन समय से आम की खेती की जा रही है। प्रसिद्ध कवि कालिदास ने भी आम की प्रशंसा में गीत गाया है। माना जाता है कि मुगल बादशाह अकबर ने दरभंगा यानि की बिहार में आम के 1,00,000 से भी ज्‍यादा पेड़ लगवाए थे।
आम विटामिन, पॉली-फेनोलिक फ्लेवेनोएड एंटीऑक्‍सीडेंट्स, प्री-बायोटिक डाइट्री फाइबर्स और मिनरल्‍स से भरपूर है। इसमें कई तरह के विटामिंस जैसे कि विटामिन ए, सी और डी भरपूर मात्रा में पाया जाता है जो कि शरीर की संपूर्ण सेहत में सुधार लाने में उपयोगी है। आम का सेवन फल, जूस या शेक के रूप में किया जाता है।
आम ज्यादातर उष्णकटिबंधीय देशों में उगाया जाता है लेकिन विश्‍व में भारत आम का सबसे बड़ा उत्पादक है। आम भारत का राष्‍ट्रीय फल है। पहाड़ी क्षेत्रों को छोड़कर लगभग भारत के सभी हिस्सों में इसकी खेती की जाती है। आपको जानकर हैरानी होगी कि भारत में आम की 100 से भी ज्‍यादा किस्‍में मौजूद हैं जिनका आकार, रंग और आकृति अलग-अलग है। आम की कुछ लोकप्रिय किस्‍मों में लंगड़ा आम, बंगनापल्‍ली, चौसा, तोता, सफेदा, अल्‍फांसो आम आदि का शामिल हैं।
आम का ताजा फल या इसकी चटनी बनाकर भी खाई जा सकती है। आम का अचार और रस भी खूब पसंद किया जाता है। कच्‍चे आम से बना आम पन्‍ना और मैंगो मिल्‍कशेक एवं आम रस भी पिया जाता है। बच्‍चों के लिए आम की जैम भी बना सकते हैं। कच्‍चे या अधपके आम पर नमक और मिर्च पाउडर बुरक कर भी खा सकते हैं।
वानस्‍पतिक नाम: मेंगीफेरा इंडिका
कुल: एनाकार्डियासीए
सामान्‍य नाम: मैंगो, आम
संस्‍कृत नाम: आम्र
उपयोगी भाग: डायबिटीज के इलाज में आम की पत्तियां बहुत उपयोगी होती हैं। त्‍योहार या शुभ अवसरों पर घर के मुख्‍य द्वार पर आम की पत्तियां लगाई जाती हैं। आम के बीजों से तेल तैयार किया जाता है। हर उम्र के व्‍यक्‍ति को आम बहुत पसंद आता है।
भारतीय परंपरा में किसी को आम देना दोस्‍ती के लिए हाथ बढ़ाना है। इसके अलावा विवाह में आम की पत्तियों का इस्‍तेमाल किया जाता है ताकि दंपत्ति को संतान की प्राप्ति हो। 
 आम के औषधीय गुण और हेल्थ बेनेफिट भी इस फलों का राजा बनाते है:
कैंसर से बचाव ...
आंखें रहती हैं चमकदार ...
कोलेस्ट्रॉल नियमित रखने में ...
त्वचा के लिए है फायदेमंद ...
पाचन क्रिया को ठीक रखने में ...
मोटापा कम करने में ...
रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में ...
सेक्स क्षमता बढ़ाने में
आम में समाविष्ट विटामिन सी और ए की उच्च एवं अच्छी मात्रा आपके प्रतिरक्षा प्रणाली को स्वस्थ और मजबूत रखने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। इसमें निहित विटामिन ए भी इम्यून सिस्टम की कार्यशीलता को उत्तेजित करने के लिए आवश्यक है।
यह त्वचा और मेम्ब्रेन के स्वास्थ्य को बनाये रखता है जिससे विभिन्न हानिकारक बैक्टीरिया और कवक के प्रवेश के खतरे को कम किया जा सकता है। विटामिन सी त्वचा को स्वस्थ रखती है और संक्रामक कणों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगा देती है। यह सफेद रक्त कोशिकाओं के उत्पादन को भी बढ़ावा देती है जिससे हमारी प्रतिरक्षा और भी मजबूत बन जाती है।
इसके अलावा, आम 25 विभिन्न प्रकार के कैरोटेनॉयड्स से भी भरपूर है जो प्रतिरक्षा प्रणाली के स्वास्थ्य पर सकरात्मक प्रभाव डालते हैं। एक मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली आसानी से सर्दी, फ्लू और संक्रमण से लड़ आपके शरीर को स्वस्थ रखने में मदद करती है।



 ब्यूरो:- जीके श्रीवास्तव

access_time25 Jun 2020 09:06 AM


#Trending